विनोद खन्ना की पत्नी कविता BJP की इस सीट से चुनाब लड़ने के लिए पेश की दावेदारी, पति चार बार रह चुके है सांसद

327

Vinod Khanna’s wife Kavita want contest BJP Ticket: विनोद खन्ना की पत्नी कविता खन्ना ने लोकसभा के होने वाले चुनाब 2019 को लेकर, बीजेपी की तरफ से पंजाब के इस सीट से चुनाब लड़ने के लिए इच्छा जाहिर की है। वही 2014 में हुए लोकसभा चुनाब के बाद से कविता खन्ना को मिडिया से दूर ही देखा गया था, लेकिन अब खुद कविता खन्ना ने होने वाले आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर पंजाब के गुरदासपुर सीट को लेकर अपनी दावेदारी पेश की है।

Vinod Khanna’s wife Kavita want contest BJP Ticket –

दरअसल आप की जानकारी के लिए बता दे की पंजाब के गुरदासपुर सीट से बॉलीवुड एक्टर और कविता खन्ना के पति विनोद खन्ना इस सीट से बीजेपी की तरफ से चार बार सांसद रह चुके है। शुक्रवार के दिन कविता खन्ना ने इसी सीट से चुनाब लड़ने के लिए बीजेपी को अपनी इच्छा ब्यक्त की है। कविता बोली बहुत बिचार बिमर्श के बाद मैंने महसूस किया की गुरदासपुर की जनता हमें अपना सांसद के रूप में देखना चाहते है। इस लिए मै अपने जतना को निराश नहीं करना चाहती हु।

अपनी दावेदारी में राखी ये तर्क –

साथ ही इस सीट को लेकर दावेदारी में कविता खन्ना ने कहा की मै सिर्फ विनोद खन्ना की पत्नी हूं इसलिए मैं ये दावा नहीं कर रही हु, साथ ही उन्होंने कहा मै इस जगह से पिछले 20 सालों से जुड़ी हूं। और मै यहाँ की जनता की भावनाओ और उनके दुःख दर्द से अच्छी तरह से वाकिफ हु, इस वजह से मै सांसद बन यहाँ की जनता की सेवा करना चाहती हु। साथ ही उन्होंने कहा की अगर बीजेपी की तरफ से हमें गुरदासपुर से लोकसभा का टिकट मिलता है तो हमें पूर्ण विस्वास है की यहाँ से जीतूंगी।

3 सालों तक बीजेपी नेशनल एग्जीक्यूटिव की मेंबर भी रही है –

आप को बता दे की कविता खन्ना ने पति विनोद खन्ना के सांसद रहने के दौरान 3 सालों तक बीजेपी नेशनल एग्जीक्यूटिव की सदस्य भी रह चुकी है। कविता ने विदेश से वकालत की डिग्री धारण की है। और यही हाइकोर्ट में प्रैक्टिस भी की है। साल 2000 के दौरान जब अटल बिहारी बाजपेयी जी प्रधानमंत्री थे तब देश में रोजगार के अवसर पैदा करने के प्रोजेक्ट के साथ जुड़कर काम भी की थी।

विनोद खन्ना की पॉलिटिक्स में एंट्री –

हम सभी जानते है की विनोद खन्ना की पहचान बॉलीवुड से बनी थी। इन्होंने बॉलीवुड के कई फिल्मो में काम कर अपनी एक अलग पहचान बनाये थे। बॉलीवुड फिल्मों से दूर होने के बाद विनोद खन्ना ने 1997 में पॉलिटिक्स में बीजेपी की पार्टी में ज्वाइन हुए थे। बीजेपी की सदस्य्ता लेने के बाद वे गुरदासपुर, पंजाब की सीट से चुनाब भी लड़े थे और जित के साथ ही सांसद बन गए।

उसके बाद जुलाई 2002 में अटल जी के कार्यकाल के दौरान संस्कृति और पर्यटन मंत्री बने। फिर साल 2003 में इसी सरकार में विनोद खन्ना को विदेश राज्य मंत्री का अहम जिम्मेदारी सौंपा गया था। उस समय इस पद पर रहते हुए विनोद खन्ना ने फिल्म इंडस्ट्री के जरिए भारत-पाक के बीच दूरियां कम करने की बेहतरीन कोशिश की भी किये थे। …..Next