लोकसभा चुनाब से पहले सुप्रीम कोर्ट ने मायावती को दिया झटका, कहा- हाथियों पर खर्च 6000 करोड़ रुपए लौटाए

231

Supreme Court Said Mayawati Returns 6000 Crores: सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाब होने से पहले उत्तर प्रदेश के बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती को बड़ा झटका दिया है। हाथियों और मूर्तियों को बनाये गए विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरन कहा की बहुजन समाज पार्टी के सुप्रीमो को जनता का पैसा खर्च किया है। साथ ही कोर्ट ने कहा हैखर्च किये गए 6000 करोड़ रुपये को लौटना होगा, क्योकि वो पैसा सरकारी खजाने से खर्च किया गया था।

Supreme Court Said Mayawati Returns 6000 Crores –

दरअसल आप की जानकारी के लिए बता दे की 2009 में मूर्तियों बनाने के खिलाफ एक मुकदमा दायर हुआ था। शुक्रबार को सुनबाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा, मायावती की सरकार जिस समय सत्ता में थी, उस समय लखनऊ और नोएडा में अपनी तथा बसपा के चुनाव चिह्न हाथी की मूर्तियां बनवाने में इतनी बड़ी रकम को खर्च की थी।

सुप्रीम कोर्ट ने साफ साफ इस मामले के ऊपर कह दिया की किसी भी सरकार के द्वारा सरकारी खजाने में जमा जनता का पैसा अपनी मूर्तियां बनवाने और राजनीतिक दल का प्रचार करने के लिए नहीं कर सकते है। इसलिए बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती को निर्देश दिया जाता है की इन पैसो को लौटाना होगा। इस मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई कर रहे थे, वही अगली सुनबाई अब 2 अप्रैल को की जाएगी।

सुप्रीम कोर्ट में दायर रिपोर्ट के अनुशार –

आप को बता दे यह मामला 2009 की है जिसमे लखनऊ, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में पार्क बनवाये गए। साथ ही दलित प्रेरणा स्थल पर मायावती की सरकार द्वारा BSP ने चुनाव चिन्ह, हाथी की पत्थर की 30 मूर्तियां जबकि कांसे की 22 प्रतिमाएं लगवाई, वही इनपर हुए करीब 6000 करोड़ रुपये का खर्च सरकारी खजाने से किया गया।

वही आप को बता दे जब मायावती की सरकार के बाद यूपी में आई अखिलेश यादव की सरकार ने इस मुद्दे को जोर शोर से उठाया था। उस समय समाजवादी पार्टी की सरकार ने पार्को और मूर्तियों पर खर्च हुए रूपये को लेकर बहुत बड़ी घोटाला का आरोप लगाया था। …..Next