देश की सेना के लिए इस छात्र ने अपने जुगाड़ से बनाई ऐसी स्पेशल गन, जो दुश्मन को पहचानकर करेगी फायर

261

Special Intelligence Machine Gun: वाराणसी के सारनाथ स्थित मैनेजमेंट कॉलेज के एक छात्र हाल ही में हुए देश की सेना पर हमला के बाद इतना ज्यादा प्रभाबित हुआ की उस ने सेना की जान बचाने के लिए दिन रात मेहनत कर एक ऐसी गन बनाई है जो दुश्मन को खुद पहचान कर लेती है और उसके बाद दुश्मन पर फायर करती है। वही यह भी बताया जा रहा है की यह अपने देश की सेना पर फायर नहीं करेगी सिर्फ देश के दुश्मनो पर फायर करेगी। बताया जा रहा है की मैनेजमेंट कॉलेज के एक छात्र ने इसे 20 दिन की कड़ी मेहनत के बाद इसे तैयार किया है।

Special Intelligence Machine Gun –

दरअसल आप की जानकारी के लिए बता दे की, इस छात्र का नाम विशाल पटेल है। यह छात्र वाराणसी के सारनाथ स्थित मैकेनिकल इंजीनियरिंग के सेकंड ईयर का छात्र है। विशाल नाम के इस छात्र ने अपनी 20 दिन की कड़ी मेहनत कर इस गन को तैयार किया है।Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HindustanFeed इस छात्र ने बताया की, इस गन की सबसे बड़ी खासियत यह है की, हमेसा सर्किट ऑटोमैटिक ऑन रहता है और देश की सिमा पर जब भी अँधेरे में दुश्मन देश द्वारा सीजफायर का उलंघन कर रात के वक्त फायर किया जाता है जिस कारन अक्सर हमारे देश के जवान शहीद हो जाते है।

इस तरह से करता है यह गन काम –

लेकिन अगर इस गन का इस्तेमाल देश की सेना करेगी तो हमारी देश की सेना इस गन के इस्तेमाल से इससे बचा जा सकता है। उस छात्र ने बताया की इस गन का हमेसा सर्किट ऑटोमैटिक ऑन रहता है जिस कारन जैसे ही सामने कोई आएगा तो कंट्रोल रूम में सबसे पहले अलार्म बजेगा। साथ ही उन्होंने बताया की हर जवान के यूनिफार्म में एक चिप लगा होगा जिसका फ्रीक्वेंसी ट्रांसमीटर गन में लगा होगा। इस वजह से अपने सेना के जवान जब भी आमने आएंगे तो सामने आते ही सर्किट बंद हो जायेगा। वही अगर कोई दुश्मन जब भी सामने आएगा तब अलार्म बंद होते ही गन फायर कर देगी।

उन्होंने बताया की इस टेक्नोलॉजी की मदद से सेना के कैंपो की सुरच्छा के साथ हमारे देश के जवानो की जान भी सुरछित किया जा सकता है। साथ ही देश के दुश्मनो को टारगेट बहुत ही आसानी से किया जा सकता है। वही आप को बता दे की फिलहाल मैकेनिकल इंजीनियरिंग के सेकंड ईयर का छात्र विशाल ने बताया की इस गन को हमने मात्र चार हजार में तैयार किया है। क्योकि गन में लगने वाले सभी कबाड़ से लिए गए है। जिसमे डिश टीवी बॉक्स जिसे ट्रिगर के लिए बनाया गया है।

रिसर्च एंड डेवलेपमेंट हेड श्याम चौरसिया ने बताया कि ये मॉडल फ्रीक्वेंसी बेस्ड है। अगर इसमें सीसीटीवी लग जाए तो दुश्मनों की एक्टिविटी भी वॉच हो सकती है। ये इंजीनियरिंग के बच्चों द्वारा किया गया अनूठा प्रयास है जिससे देश की सरकार को इसके लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।

Special Intelligence Machine Gun में उपयोग किये गए पार्ट्स –

इस गन में पेयर सेंसर का इस्तेमाल किया गया है। इसके सामने अगर कोई एक्टिविटी होती है तो सर्किट ऑन हो जाता है। इसके साथ ही स्टील ड्रम का इस्तेमाल किया गया है। इससे सामने लगा होगा बचाव के लिए। इसके साथ ही गेयर पुली गेयर पुली सिस्टम मैकेनिकल सिस्टम है, जो गन के बैरल को रोटेट कराएगा। इसके साथ ही इसमें आरएफ ट्रांसमीटर लगा है, जिससे जवान के यूनिफार्म की कोडिंग के जरिए लगा रहेगा। इन सब के अलावा इस गन में 1/4 इंच मेटल पाइप, 9 वॉल्ट बैटरी भी है जो सिस्टम को चालू रखने के लिए है।  …..Next

ये भी देखें – शादी की मेहंदी भी नहीं छूटी थी और एक ही रात में छूट गया जीवन साथी का साथ