एक करोड़ की जॉब छोड़ IAS बनने चला यह लड़का UPSC टॉप किया तो यकीं नहीं हुआ, इस सफलता का श्रेय माता पिता बहन और ‘वो’ को दिया

UPSC टॉप करने पर माँ-बाप के साथ अपनी Girlfriend को भी दिया अपनी सफलता का श्रेय

527
Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HF News, HindustanFeed, kanishk kataria UPSC Topper

kanishk kataria UPSC Topper: सिविल सर्विसेज एग्जामिनेशन 2018 का रिजल्ट आया तो उसमे टॉप करने वाले का नाम सबसे उपर आया वो है सांवरमल वर्मा के बेटे कनिष्क कटारिया का, इन्होने पुरे भारत में टॉप किया है. कनिष्क नीमकाथान के थोई के रहने वाले हैं. कनिष्क ने आईआईटी मुंबई से कंप्यूटर साइंस में करने के बाद उन्हें कोरिया में सेमसंग कम्पनी में जॉब मिली थी.

kanishk kataria UPSC Topper –

दरअसल आप की जानकारी के लिए बता दे की, वहां उन्हें एक करोड़ का पैकेज मिला था. लेकिन उनके दिल में तो आईएएस बनना था वो भी अपने ताऊ की तरह देश सेवा करना चाहते थे. पास हो जाऊँगा उम्मीद थी पर टॉप की नहीं कनिष्क कहते है की यह उम्मीद जरुर थी की वो एग्जाम क्लियर कर जायेंगे पर यह उम्मीद बिलकुल भी नहीं थी की वो पुरे भारत में टॉप कर जायेंगे.

जब उन्हें यह न्यूज़ मिली तो वो किसी चमत्कार से कम नहीं था. कनिष्क कहते है की मैं तो एक बार शौक रह गया था मुझे खुद पर यकीन नहीं हो रहा था की मैं इंडिया टॉप कर गया हूँ.कनिष्क ने करीब 2 साल कोरिया में जॉब की और Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HF News, HindustanFeed, kanishk kataria UPSC Topperउसके बाद उन्होंने नौकरी छोड़ दी और भारत लौट आये. यहाँ आकर उन्होंने दिल्ली में तैयारी करना शुरू किया और करीब 2 सालों की तैयारी में वो एग्जाम भी क्लियर किया और इंडिया में टॉप भी आ गये.

2 साल में कनिष्क बन गये अपने सपनों के राजा –

कनिष्क के ताऊ केसी वर्मा का कहना है की कनिष्क बचपन से ही पढाई से जुड़े हुए हैं. उन्होंने यह भी बताया की कनिष्क के परिवार में उनके सहित सभी व्यक्ति सरकारी जॉब करते हैं. यहाँ तक की कनिष्क के पिता भी सरकारी जॉब कर रहे हैं. ऐसे में कनिष्क को कोरिया में जॉब मिली पर वो अपनी जॉब से खुश नहीं हुए और उन्होंने भी आइएएस बनने की ठानी और आज उसका यह सपना पूरा भी हो गया है.

कनिष्क ने दिया अपनी सफलता का श्रेय –

वहीं कनिष्क ने कहा की उनके परिवार वालों थे उनका साथ दिया ही पर उनको सफल करने में किसी और का भी हाथ है. यह कोई और नहीं उनकी एक गर्लफ्रेंड है जो जापान में रहती है. कनिष्क कहते है की उसने मुझे हमेशा हिम्मत दी है और जब भी मुझे ऐसा लगता था की मैं अब कुछ नहीं कर पाऊंगा तब उसने उन्हें हिम्मत दी है. कनिष्क के अनुसार उस लड़की ने उनको जिंदगी में मोरल सपोर्ट दिया है और उसका मोरल सपोर्ट ही कनिष्क को आगे बढने में और पढने में काम आया है.

दरअसल आप की जानकारी के लिए बता दे की, कनिष्क के पिता सांवरमल वर्मा के अनुसार जब कनिष्क बहुत छोटे थे तब भी वो पढाई में बहुत मन लगाते थे और 10 वीं में उन्होंने 94% लाकर अपनी पढाई का सबूत भी दिया था. उसके बाद से अभी तक उन्हें आज तक कभी भी कनिष्क को लेकर किसी भी तरह की चिंता नहीं हुई क्योंकि कनिष्क पढाई में बहुत तेज और अपने लक्ष्य को अच्छे से पाने में सक्षम हैं.  ………Next

ये भी देखें – 9वी फेल लड़के ने दादा से कहा मुझे बड़ा आदमी बनना है जवाब मिला जाकर दूध बेच और बन गया करोड़पती