विदेशों में रह रहे भारतीयों के लिए किसी मसीहा से कम नहीं हैं सुषमा स्‍वराज, जब भी परेशानी हुई ऐसे बचाई है उनकी जान

71

Happy Birthday Sushma Swaraj: मोदी सरकार में भारत के विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज का आज जन्म दिन है, आज ही के दिन अम्बाला में 14 फरवरी 1952 को इनका जन्म हुआ था। आप की जानकारी के लिए बता दे की राजनीती में कदम रखने से पहले सुषमा स्‍वराज सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता के रूप में काम करती थी। वही आप को बता दे की विदेश में रहने वाले भारतीयों पर जब-जब किसी भी तरह का कोई भी संकट आई तब-तब सुषमा जी ने एक मसीहा की भूमिका निभाई है।

Happy Birthday Sushma Swaraj –

आप को बता दे की सुषमा स्‍वराज (Sushma Swaraj) राजनीती में बहुत ही एक्टिव रहने वाली नेता है। वही जब से इन्होने विदेश मंत्री की पद संभाली तब से किसी भी भारतीयों के लिए एक मशीहा की भीमका निभाई है। किसी भी भारतीय को विदेश में किसी भी प्रकार की सहायता के लिए उचित कदम तुरंत उठाई है।

भारतीयों के लिए एक मशीहा की भीमका निभाई –

2014 में भाजपा की सरकार के सत्ता में आने के बाद विदेश मंत्री के रूप में सुषमा स्‍वराज (Sushma Swaraj) को कई ऐसे मौके पर देखा गया, जहां पर जिस देश में भी भारतीयों के साथ अन्याय हुआ या फिर उन्हें वहां संकट में फॅसे होने पर बापस भारत घर लाना। इस सभी मौको पर इन्होंने ने अपनी तरफ से हर नामुमकिन कोसिस को मुमकिन कर मदद की है।

यमन बिद्रोह सबसे बड़ा उदाहरण –

आप बता दे की जब यमन में हाउथी विद्रोहियों के साथ वहा की सरकार के साथ जंग छिड़ गया था, उस समय हजारो भारतीय वहा पर मुश्किल में फंस गए थे। और जंग रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था ऐसे मौके पर जब यमन में भारी बमबारी हो रही थी तब यमन में फंसे सभी भारतीयों को के मदद के गुहार पर सुषमा (Sushma Swaraj) जी ने सभी को सुरछित निकाल कर अपने देश भारत लाई थी।

जिसमे करीब पांच हजार भारतीयों लोग शामिल थे। इस ऑपरेशन का नाम राहत रखा था। जिस तरह से भारतीयों को यहाँ से निकाला गया पूरी दुनिया देखती रह गई थी। क्योकि यमन में भारी बमबारी के बीच सभी को सुरछित निकाला गया था।

सूडान में छिड़े सिविल वॉर –

आप को बता दे की जब दछिन सूडान में भी छिड़े सिविल वॉर के समय वहाँ पर रह रहे भारतीयों ने सुषमा स्वराज से भारत आने की गुहार लगाई थी। जिस पर तुरंत इन्होंने ऑपरेशन संकटमोचन टीम बनाकर बचाने की शुरुआत की थी। जिसमे करीब 150 से भी ज्यादा भारतीयों को बचाकर अपने देश भारत लाया गया था।

लीबिया में भी जंग छिड़ने पर –

आप को बता दे की जब लीबिया सरकार के साथ वहां पर विद्रोहियों के साथ जंग छिड़ी थी समय भी वहां पर फंसे भारतीयों के गुहार पर तुरंत ही वहां पर फंसे सभी भारतीयों को छुड़ाकर भारत बापस ले आई थी। जिनमे करीब 29 भारतीयों को सुरछित लाया गया था।

इस तरह से और भी कई मामलो में पाकिस्तान में फंसे भारतीयों की गुहार पर उन्हें भी वहां के जेल से छुड़ाकर भारत लाई थी। जिस तरह से इन्होंने अपने कार्यकाल में काम किया जो बेहद की कबीले तारीफ है। और उन सभी लोगो के लिए सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) किसी मशीहा से कम नहीं है। ……Next