कल से शुरू होने जा रहा है गुप्त नवरात्र, गुप्त सिद्धियां पाने के लिए की जाती है शिव और शक्ति की साधना

एक वर्ष में इतने नवरात्र मनाई जाएगी, क्या है गुप्त नवरात्र का महत्व?

360

Gupt Navaratri 2019 Special: हमारे देश में हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार पुरे एक वर्ष में चार नवरात्र होता है। लेकिन ज्यादातर दो ही नवरात्र देखने को मिलते है, शारदीय नवरात्रि और चैत्र नवरात्रि ये दोनों नवरात्र के बारे में हम सभी लोग भलीभांति जानते है। लेकिन इसके अलावा भी हमारे धर्म शास्त्रों में दो और नवरात्र के बारे में बताया गया है। जो की अलावा माघ व आषाढ़ मास में मनाई जाती है। लेकिन ये दोनों नवरात्र का पर्व गुप्त रूप से मनाया जाता है। इस वजह से इन्हे गुप्त नवरात्र कहा जाता है।

Gupt Navaratri 2019 Special –

आप को बता दे की इस बार यह गुप्त नवरात्र माघ मास की माघ शुक्ल प्रतिपदा (5 फरवरी, मंगलवार ) से हो रहा है, और यह 14 फरवरी, गुरुवार को गुप्त नवरात्र समाप्त हो जाएगी। इस नवरात्र में शिव और शक्ति की विसेस उपसना की जाती है। जबकि आप को बता दे की चैत्र व शारदीय नवरात्र का पूजन सार्वजनिक रूप से की जाती है।

क्या है गुप्त नवरात्र का महत्व? –

आप को बता दे की गुप्त नवरात्र विशेष तौर पर गुप्त शिधियो की प्राप्ति के लिए किया जाता है। जिसमे तंत्र मंत्र की सिद्धियां शामिल होती है। जो भी लोग तंत्र और मंत्र की सिद्धियां प्राप्त करना चाहते है वही लोग इन दोनों गुप्त नवरात्र (माघ तथा आषाढ़) में विशेष साधना करते हैं। जिसके फलस्वरूप सिद्धियां सफल होने पर उन्हें चमत्कारी शक्तियां की प्राप्ति होती है।

हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार पुरे एक वर्ष में चार नवरात्र होता है –

आप को बता दे की पहला नवरात्र अश्विन मास में होती है जो की यह नवरात्र सबसे प्रमुख मानी जाती है। वही दूसरा नवरात्र चैत्र मास में मनाई जाती है। इसके बाद तीसरा और चौथा नवरात्र आषाढ़ तथा माघ मास में मनाई जाती है। जिस बारे में अधिक लोगो को जानकारी नहीं होती है। यह जानकारी खास कर मंत्र तंत्र शिद्धि करने वालो लोगो हो होती है। और यह नवरात्र गुप्त तरीके से मनाया जाता है। इस लिए इन दोनों नवरात्र को नवरात्र गुप्त कहा जाता है।