दिल्ली की पहली महिला कैब ड्राइवर बन, 40 साल की उम्र में रचा इतिहास

2453
Delhi First Female Cab Driver

Delhi First Female Cab Driver: सपनों की उड़ान भरने के लिए अपनी 40 साल के उम्र में बुलंद हौसले के साथ अपनी उम्र से भी लंबी सड़के और कुछ जिद्दी सपने को साकार कर इस महिला ने इतिहास रच दिया! दरअशल दिल्ली की शन्नो बेगम अपनी जद्दो जहत जिंदगी की परेशानी भरे रास्ते पर चाहती थी की वह अपने तीनों बच्चों की परवरिश में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती थी! लेकिन दिल्ली जैसे महानगर में एक आम आदमी को अपने आम जिन्दगी में सपने देखने के लिए भी पैसे चाहिये होते है!

Delhi First Female Cab Driver –

वही शन्नो बेगम अपने पति की मौत के बाद गृहस्त जीवन की गाड़ी को ढोते-ढोते थक चुकी शान्नो को तो पहले यही लगा था कि जिंदगी पटरी से उतर चुकी थी! और निराशा से कारन सभी सपने चकनाचूर हो गए थे लेकिन भी मन के कोने से आवाज आई, बस इतने से थक गई शन्नो बेगम दूसरे ही पल शन्नो बेगम के सामने उसकी जिंदगी का रोडमैप तैयार हो चुका था!

Delhi First Female Cab Driver – उसने फिर से पढ़ाई करने की ठानी और उन्होंने कुक से लेकर केयर टेकर तक काम किया! और अपने बड़ी बेटी की भी सादी की फिर छोटी बेटी को बीए में दाखिला करवाया और अपने सबसे छोटे बेटे को भी स्कूल भेजा!

इस तरह से बनी Delhi First Female Cab Driver – Success Story 

इसी बीच उनके जीवन में अचानक एक और बहुत बड़ा बदलाव आया, एक दिन उन्हें पता चला की आजाद फाउंडेशन की और से छह महीने का एक निःशुल्क ड्राइविंग कोर्स कराया जा रहा है! फिर क्या था शन्नो बेगम ने वह कोर्स  कर लिया। कोर्स करने के बाद उसने कुछ लोगों की निजी गाड़ियां भी चलाईं! Delhi First Female Cab Driver फिर 40 साल की उम्र में वह दिल्ली की पहली महिला कैब ड्राइवर बन एक इतिहास रच दिया! अभी वह उबर की पहली महिला चालक है सड़कों पर चलते हुए शन्नो बेगम को लगता है, मानो सपने भी साथ-साथ चल रहे हों!