चामुंडा देवी शक्ति पीठ का जानिए राज, जहां चंड और मुंड दानवो का हुआ था अंत

229
Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HF News, HindustanFeed, Chamunda Devi Shakti Peeth secret

Chamunda Devi Shakti Peeth secret: हमारा भारत जिसे विश्व में मन्दिरों की नगरी के नाम से भी पहचान मिली हुई है. कहा जाता है की भारत यहाँ देवताओं ने सबसे ज्यादा अपने चमत्कार किये हैं. ऐसा नहीं है की हर एक देश में भगवान है और उन्होंने वहां पर अपने होने का प्रमाण भी दिया है. फिर भी अगर भारत पर जब नजर डाली जाती है तो इसे स्वीकार करना पड़ता है की भारत यानि की हिन्दुस्तान कुछ ख़ास हैं.

Chamunda Devi Shakti Peeth secret –

दरअसल आप की जानकारी के लिए बता दे की, यहाँ की मिटटी में कुछ तो बात है जो अन्य देशों की मिटटी में नहीं है, या फिर यहाँ कहूँ की यहाँ के धर्म कर्म में कुछ तो ख़ास बात है जो और कहीं पर नहीं है. Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HF News, HindustanFeed, Chamunda Devi Shakti Peeth secretभारत को देवी देवताओं का गढ़ भी कहा जाता है. और अगर बात देवियों की होती है तो हिमाचल में स्थित चामुंडा देवी का मंदिर जरुर याद आता है. चामुंडा देवी शक्ति पीठ, हिमाचल में कांगड़ा में स्थित चामुंडा माता का मंदिर 51 शक्ति पीठ में से एक माना गया है.

यहाँ आने वाले हर एक श्रद्धालु पर माता की अहम कृपा रही है, यहाँ आने वाले हर इंसान को माता अपनी शक्ति का अनुभव करवाती है. माना जाता है की जो भी माता के गया है आज तक खाली हाथ नहीं आया है. Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HF News, HindustanFeed,  Chamunda Devi Shakti Peeth secretकहा यह भी जाता है की यहाँ पर अनेक ऐसे राज भी दफन है जिन्हें समझ पाना आम इंसान के वश की बात नहीं है. फिर भी कुछ लोग इन राज यानि की चमत्कारों को बहुत नजदीक से देख चुके हैं. आज हम इस पोस्ट में कुछ ऐसे ही राज का उल्लेख करने वाले हैं.

शिव शक्ति दोनों का वाश है यहाँ –

माना जाता हैं की चामुंडा माता के मन्दिर में शिव और शक्ति दोनों का वाश है, कहा जाता है की जालंधर राक्षस और शिव के बिच में यही पर युद्ध हुआ था, इसलिए इसे रूद्र चामुंडा भी कहा जाता है. आपको बता दूँ की चामुंडा माता के मन्दिर के पास ही भगवान शिव की मूर्ति भी विराजमान है. जिन्हें नंदिकेश्वर के नाम से जाना जाता है. बाणगंगा के नजदीक यह मंदिर बना हुआ है. माना जाता है की इस मंदिर का निर्माण 16वीं शदी में किया गया है. कहा जाता है की यहाँ आने वाले हर एक भक्त की मनोकामना पूर्ण होती है. कहा जाता है की यहीं पर माँ काली ने अपना रूद्र अवतार लिया था.

चंड और मुंड का किया था वध –

कहा जाता है की यहाँ पर माँ काली ने चंड और मुंड का संहार किया था. कहा जाता है की चंड और मुंड को  वध करने के बाद माँ काली ने इस जगह का नाम चामुंडा रखा था. कहा जाता है की यहाँ पर आज भी अनेक तरह के चमत्कार होते है और भगवान की कृपा से यहाँ आने वाले हर एक इंसान की मनोकामना पूर्ण होती है. इस मंदिर में देश विदेश के लोग भी आस्था रखते है और यहाँ पर लाखों की संख्या में हर रोज श्रद्धालु आते है. कहा जाता हैं की यहाँ पर जाने वाले हर एक श्रद्धालु की इच्छा पूरी होती है.    ……..Next

ये भी देखें – जयमाला हो गयी परन्तु मांग में सिंदूर के समय जब दुल्हन की नजर पड़ी दुल्हे पर तो उसकी निकल गयी चीख ,फिर उसने किया कुछ ऐसा बारात केवल दुल्हन के लिए वापस आ गई …