इस मुस्लिम देश में हिंदी को माना तीसरी ऑफिशियल भाषा, इस वजह के कारन लिया गया ऐतिहासिक फैसला

115

Abu Dhabi Historical Decision Third Official Language Hindi: यूनाइटेड अरब अमीरात की राजधानी अबू धाबी में हिंदी भाषा को लेकर एक बहुत बड़ा आधिकारिक घोसना की गई। आप को बता दे की इस ऐतिहासिक फैसले में यहां हिंदी को कोर्ट के अंदर तीसरी आधिकारिक भाषा का दर्जा देने की घोसना कर दी गई। यहाँ पर अभी तक कोर्ट में अरबी और अंग्रेजी भाषा को भी आधिकारिक भाषा का दर्जा प्राप्त था। लेकिन अब इस आधिकारिक घोसना के साथ यहाँ हिंदी तीसरी आधिकारिक भाषा बन गई।

Abu Dhabi Historical Decision Third Official Language Hindi –

दरअसल आप की जानकारी के लिए बता दे की शनिवार के दिन अबुधाबी के जस्टिस डिपार्टमेंट ने कहा की यहाँ पर कामगारों से जुड़े मामलों में हमें अब अरबी और अंग्रेजी के अलावा हिंदी में भी बयान और अपील दायर कर सकते है। इसके लिए सभी निर्देश जारी कर दिए गए है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा की हिंदी को शामिल हो जाने से हमारा लक्ष्य है, हिंदी भाषियों को मुकदमों की प्रक्रिया को सिखने और समझने में बहुत बड़ा मदद करना है। जिससे उनकी दिक्कत को बहुत ही आसानी से समझा जा सकता है और उस समस्या के ऊपर उचित कारवाई भी हो सकती है।

ऑफिसियल वेबसाइट के जरिये शुरू हो गई हिंदी में रजिस्ट्रेशन की सुविधा –

उन्होंने बताया की अब हिंदी भाषियों को अबुधाबी जस्टिस डिपार्टमेंट की ऑफिशियल वेबसाइट के जरिए रजिस्ट्रेशन की सुविधा भी उपलब्ध कराई जा रही है, जिसकी शुरुआत हो चुकी है। एक रिपोर्ट के आधार पर उन्होंने बताया की भारतीय लोगो की यूनाइटेड अरब अमीरात में करीब 30% जनसंख्या है। यानि देखा जाये तो करीब 26 लाख की आबादी भारतीय हिंदी बोलने बाले समुदाय की है। इस वजह से यह फैसला लिया गया है।

इस फैसले से यह होगा लाभ –

यूनाइटेड अरब अमीरात में रहने वाले हिंदी जानने वालो को अब अबुधाबी न्यायिक विभाग के अंडर सेक्रेटरी यूसुफ सईद अल आबरी कई भाषाओं में याचिकाओं, आरोपों और अपीलों को स्वीकार करेंगे। उन्होंने कहा की हमारा यह मकसद था की 2021 की भविष्य की योजना को देखते हुए सभी के लिए न्याय व्यवस्था को प्रसारित करना आसान हो जाये। उन्होंने बताया की हम अपनी न्यायिक व्यवस्था को और अधिक पारदर्शी बनाना चाहते हैं, जिससे हर कोई अच्छी से समझ सके और अपनी भी बात रख सके। इस कारन से हमने हिंदी को तीसरी भाषा के रूप में आधिकारिक दर्जा की घोसना किये है। ……Next