जो बेटा 28 दिन बाद बनने वाला था दूल्हा, उस घर में पहुंचा शहीद का पार्थिव शरीर, मां ने सेहरा बांध दी अंतिम विदाई !

1909

पंजाब:- के बटाला से हमारे पुरे देश के लिए एक दुःख भरी खबर आ रही है। जहाँ आप को बता दे की उस घर में मात्र 28 दिन बाद सैनिक बेटे की शादी की शहनाई बजनी थी। दरअशल आप की जानकारी के लिए बता दू की देर रात बीएसफ में 61 बटालियन के कॉन्स्टेबल पद पर तैनात 27 साल के शहीद सिमरदीप सिंह का पार्थिव शरीर अचानक उनके घर पंहुचा।

वही माँ अपने बेटे का मृतक शरीर देखते ही चीख चीख कर रोने लगी, वही पिता की भी आँखों में आशुओ का सैलाव उमड़ आया था। वही बीते हुए कल मंगलवार को श्मशान घाट में पुरे सरकारी और सैन्य सम्मान से सिमरदीप सिंह का अंतिम संस्कार कर दिया गया। वही माँ पलविंदर कौर और पिता बलजीत सिंह ने तिरंगे में लिपटे बेटे की पार्थिव शरीर को कंधा दिया।

  • वही अभी हाल ही में अपनी माँ से फोन पर बोला था सादी के 10 दिन पहले मै आ जाऊंगा 

वही आप को बता दे की शहीद की माँ का कहना था की 21 नवंबर को बेटे की शादी थी। शादी की सभी तैयारियां भी पूरी हो चुकी थी। यहाँ तक की दुल्हन के लिए कपड़े भी खरीदे जा चुके थे। और अभी हाल ही बेटे का फोन आया था और उसने कहा था की वह शादी के दस दिन पहले आ जायेगा।

वही माँ बताई की सिमरदीप हमेशा कहता था की वह सिर्फ देश की सेवा करना चाहता है। और वह बीएसफ में ही भर्ती होगा ऐसा वो अक्सर कहता था। वही माँ ने बेटे की अंतिम बिदाई के समय सिर पर शेहरा बांधते हुए दहाड़े मरकर रोने लगी।

माँ का सपना था की वह भी अपने बेटे के सर पर सेहरा बांधे। लेकिन उसका यह सपना महज सपना ही बनकर रह गया। माँ बातें सुन हर किसी की आँख में आँशु आ गए। जो भी लोग हमरे इस पोस्ट को पढ़े वो हमारे बीर देशभक्त सैनिक के लिए कम से कम 1 मिनट का मौन जरूर रखे।