बेटे की मौत के बाद शोक मनाने आये लोगों ने खराब होती फसल को देखा तो, आये 100 लोगों ने दिखाई ऐसी एकता और काट दी फसल बन गई मिसाल

बेटे की मौत से सदमे में था पूरा परिवार इसलिए लोगों ने दिखाई ऐसी एकता और काट दी फसल

780
Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HF News, HindustanFeed, 100 people showed such unity

100 people showed such unity: राजस्थान हमारे राजस्थान की बात ही निराली है सर, क्योंकि यहाँ के लोग पैसों से नहीं दिल से प्यार करते है. आज फिर राजस्थान के लोगों ने दिखा दिया है की वो अगर चाहे तो दुनिया के किसी भी कोने में अपना नाम बना सकते है. पर क्या करें उनका दिल है की मानता ही नहीं है. यहाँ ज्यादा तारीफ़ ना करते हुए खबर पर आता हूँ, क्योंकि तारीफ़ तो आज हर एक,

100 people showed such unity –

क्योंकि तारीफ़ तो आज हर एक टीवी चैनल कर रहा है हमारे राजस्थानियों की, खैर यह खबर है राजस्थान के जोधपुर जिले की आइये पढ़ते है की आखिर ऐसा क्या हुआ की 100 लोगों ने मिलकर खेत की सारी फसल ही काट दी. Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HF News, HindustanFeed,  100 people showed such unityजोधपुर के एक गाँव की है यह खबर जोधपुर के गाँव द्याकौरा गाँव निवासी भूरालाल पालीवाल के 18 वर्षीय बेटे गनपतराम की मौत चार दिन पहले रायपुर छत्तीसगढ़ में हो गई थी.

दरअसल आप की जानकारी के लिए बता दे की, यहाँ पर गनपत अपने भाई से मिलने आया था पर यहाँ मौत उसका इन्तजार कर रही थी. अचानक यहाँ पर उसका पेट दर्द हुआ और गनपत की मौत हो गई, Breaking News, Viral News, Latest News, Trending News, Hindi News, Latest News hindi, India, HF News, HindustanFeed,  100 people showed such unityखेती बाड़ी करने वाला गनपत का परिवार मानो टूट गया हो और गनपत ही इस परिवार का एक साहारा था. ऐसे में उसकी मौत हो जाना भूरालाल के लिए टूट जाने वाला हादसा है. भूरालाल पूरी तरह से टूट गये है.

फसल होने लगी खराब –

जब घर में जवान बेटे की मौत हो गई तो अपने खेत की संभाल कौन करें, और आप जानते हो की फसल भी पूरी तरह से पक चुकी थी ऐसे में घर का कोई भी सदस्य खेत नहीं जा पाया और पक्की हुई फसल भी खराब होने को आ गई. पर कहते है ना की भगवान किसी भी रूप में हमारी मदद करने के लिए आ ही जाते है. भूरालाल के साथ भी ऐसा हुआ. यहाँ आने वाले हर एक शख्स ने देखा की बेटे की मौत के कारण भुरालाला अब अपना खेत नहीं संभाल पा रहे है ऐसे में कुछ लोगों ने एकता के साथ इस फसल को काटने का फेसला लिया.

मौषम विभाग से जारी हुई सुचना और लोगो ने संभाली फसल –

कुछ दिन पहले ही मौषम विभाग से एक सुचना जारी हुई उसमे आंधी और बारिश आने की संभावना बताई गई. ऐसे में भूरालाल की 10 बीघा जमींन में जीरा और गेंहू की फसल खड़ी थी जो खराब होने के सबसे ज्यादा चांस थे. ऐसे में गाँव के 100 लोगों ने एकता के साथ इस फसल को काटने का फैसला लिया. भूराराम के खेत में खड़ी 10 बीघा फसल को गाँव के 100 लोगों ने दोपहर तक काट के इकट्ठा कर दिया था. इस तरह का साथ पाकर भूरा राम और उसका परिवार रोने लगा और साथ ही कहने लगा की ऐसा गाँव और ऐसे लोग हर किसी को दे जो दुःख में सभी का साथ देता हो.  …….Next

ये भी देखें –  पति ने दिया पत्नी को तलाक, तब इस महिला ने अपने 5 महीने के बच्चे के साथ जीवन यापन के लिए उठाया यह कदम