इन तस्वीरों की सच्चाई जानने के बाद, आपकी आंखों में भी आ जाएंगे आंसू एक बार जरूर पढ़ें !

1592

दिल्ली में नगर निगम के कर्मचारियों की स्थिति क्या है ये बात किसी से छिपी नहीं है। गटर के गंदे पानी में उतरने वाले कर्मचारियों के साथ रोजाना यहां कोई ना कोई हादसा जरूर होता है। हाल ही में मिली रिपोर्ट के अनुसार, सन 2017 से लेकर अब तक सीवर साफ करते हुए लगभग हर 5 दिन में एक कर्मचारी की मौत हुई है। इनमें से ज्यादातर कर्मचारियों के बारे में लोग जानते तक भी नहीं है और प्रशासन ने भी इनकी मौत के बाद उनके घरवालों को भुला दिया।

हाल ही में दिल्ली जल बोर्ड के सीवर को साफ करते हुए अनिल नामक एक कर्मचारी भी मौत की भेंट चढ़ गया। लेकिन हिंदुस्तान टाइम्स के एक पत्रकार द्वारा खीचीं गई तस्वीर से अनिल के परिवार वालों को काफी सहायता मिली है। पत्रकार द्वारा ली गई इस फोटो में आप देख सकते हैं कि अनिल का बेटा अपने मृत पिता के पास खड़ा है।

उसने अपना एक हाथ पिता के माथे पर रखा है और दूसरी हाथ से अपना आंसू पोछ रहा है। उस परिवार के पास अनिल के अंतिम संस्कार के लिए भी पैसे नहीं थे। उस पत्रकार ने इस फोटो को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लोगों से मदद की मांग भी की गई थी।

देखते ही देखते यह पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। करीब 887 यूजर्स ने पीड़ित परिवार के लिए 50 लाख रुपए के आसपास जुटा लिए हैं, जिनमें 15 रुपए से लेकर 50 हजार रुपए तक की सहायता शामिल है। साथ ही साथ अब दिल्ली सरकार ने भी मृतक के परिवार वालों को 10 लाख रुपये की देने की घोषणा की है।

अनिल की पत्नी रानी ने कहा है कि इन पैसों से वो अपने बच्चों की पढ़ाई-लिखाई करवाएगी और साथ ही साथ उनकी बेहतर परवरिश में भी इससे मदद मिलेगी। उन्होंने सभी मदद करने वालों को दिल से धन्यवाद कहा है।

और हम हिंदुस्तानफीड की तरफ से उस पत्रकार के प्रति आभार ब्यकत करते है और उनको धन्यबाद कहते है।